म्यूच्यूअल फंड क्या है और कैसे निवेश करें?

पैसा बनाने के कई तरीकों में से एक है निवेश करना लेकिन निवेश करने के कई तरीके हैं आपके लिए कौन सा उपाय सही है? क्या आपने इस बारे में कभी सोचा है। निवेश के बीच उल्लेखनीय स्टॉक मार्केट, बॉन्ड, म्यूच्यूअल फंड [Mutual Fund], फिक्स्ड डिपॉजिट, आवर्ती जमा (RD) आदि है।

म्यूच्यूअल फंड [ Mutual Fund In Hindi ]

ऐसे कई लोग हैं जो निवेश करने से डरते हैं या इन्वेस्ट संबंधित उनके पास पर्याप्त ज्ञान की कमी है। मैंने पहले ही बताया निवेश करने के कई तरीके हैं और कई तरीके हैं जिनमें बहुत अधिक जोखिम शामिल है लेकिन म्यूचुअल फंड में क्यों। क्या इसमें कोई जोखिम नहीं है, जोखिम है तो कितना? इस पोस्ट के माध्यम से म्यूचुअल फंड से संबंधित सभी जानकारी देने की कोशिश करूंगा ताकि Mutual Fund के बारे में सभी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

म्यूच्यूअल फंड [ Mutual Fund ] क्या है?

म्यूचुअल फंड दो अंग्रेजी शब्दों का मेल है Mutual और Fund। इन दो अंग्रेजी शब्दों को देखकर आप कम से कम अनुमान लगा सकते हैं कि इस शब्द का क्या मतलब है।

  • Mutual का हिंदी अर्थ – आपसी, पारस्परिक।
  • और Fund का हिंदी अर्थ – पूंजी, रकम, पैसा इकट्ठा करना।

अर्थात् छोटे छोटे निवेशकों से पैसा इकट्ठा करके विशेषज्ञ द्वारा एक फंड तैयार किया जाता है। फंड में जमा हुआ सारा पैसा इक्विटी, बॉन्ड या कुछ और जगह में निवेश करके जो प्रॉफिट कमाया जाता है, प्रॉफिट निवेशकों के बीच गणना करके बांटा जाता है। – इस कांसेप्ट का उपयोग करके म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट सिस्टम बनाया गया है।

AMC Full Form “Asset Management Company” द्वारा मैचुअल फंड मैनेज किया जाता है और AMC के अंदर कई स्किंस होती है जहां साधारण निवेशक निवेश करते हैं।

कितने प्रकार के म्यूचुअल फंड [Mutual Fund] हैं?

म्यूचुअल फंड के प्रकार को जानकर आप थोड़े भ्रम में पढ़ सकते हैं, लेकिन भ्रमित होने का कोई कारण नहीं है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितने प्रकार हैं, इसे तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है।

इक्विटी म्यूचुअल फंड : Equity Mutual Fund स्कीम में निवेशकों का पैसा सीधे शेयर बाजार में लगाया जाता है इसीलिए जोखिम अधिक है। यदि आप बहुत अधिक रिटर्न की उम्मीद करते हैं तो यह आपके लिए एक फायदा हो सकता है लेकिन आपको 10 साल से अधिक समय के लिए निवेश करने की आवश्यकता है। केवल वे लोग जो अधिक जोखिम उठा सकते हैं, उन्हें इक्विटी फंड में निवेश करना चाहिए।

डेट म्यूचुअल फंड : Debt funds इक्विटी फंड्स की तुलना में बहुत कम जोखिम वाले होते हैं। यदि आप फिक्स्ड डिपॉजिट की तुलना में Debt funds में निवेश करते हैं तो आपको अधिक लाभ होगा क्योंकि सरकारी बॉन्ड और अन्य निश्चित आय में निवेश करने की वजह से प्रॉफिट थोड़ा ज्यादा सुरक्षित हैै।

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड : ये स्कीम इक्विटी फंड और डेट फंड दोनों में निवेश करती है। इस योजना का मुख्य लक्ष्य है सुरक्षित प्रदान करना और ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट कमाना। इक्विटी फंड में शेयर मार्केट के अंदर निवेश करके और डेट फंड के अंदर सुरक्षित तरीकों से कुछ पैसा निवेश करके ऐसा स्कीम तैयार किया जाता है जहां सुरक्षित का ध्यान में रखते हुए उच्च प्रॉफिट कमाया जाए।

म्यूचुअल फंड [Mutual Fund] में कैसे इन्वेस्ट करें?

बाजार में कई एप्लिकेशन और वेबसाइट उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से आप डायरेक्ट म्यूचुअल फंड मैं निवेश कर सकते हैं। म्यूचुअल फंड [ Mutual Fund] में निवेश करने से पहले, आपको अपनी पहचान साबित करने के लिए केवाईसी करने की आवश्यकता होती है, केवाईसी करवाने के लिए आधार कार्ड और पैन कार्ड आवश्यक है।

लोकप्रिय म्यूचुअल फंड प्लेटफ़ॉर्म जैसे कि – Groww, Paytm Money, ETMONEY, InvesTap आदि।

यूनिट क्या है?

यूनिट म्यूचुअल फंड का एक छोटा हिस्सा हैं, कई निवेशक म्यूचुअल फंड में एक साथ निवेश करते हैं और उनके इन्वेस्ट अनुसार यूनिट्स द्वारा बाटा जाता है। प्रत्येक यूनिट को अग्रिम में एक मूल्य होता है और निवेश की गई राशि के अनुसार यूनिट दी जाती है।

बाजार के अनुसार प्रति यूनिट का कीमत बढ़ती और घटती है, यदि आप यूनिट को खरीदना चाहते हैं आपको वर्तमान बाजार मूल्य पर खरीदना होगा और बेचते हैं आपको वर्तमान यूनिट मूल्य पर बेचना होगा। [ आपकी यूनिट की कीमत मौजूदा समय के आधार पर की जाएगी ]

हम इसे एक बहुत ही दिलचस्प उदाहरण के साथ समझने की कोशिश करेंगे – मान लीजिए चॉकलेट के एक बॉक्स मे 6 चॉकलेट हैं और इसकी कीमत 12 रुपये है यानी प्रत्येक चॉकलेट का मूल्य ₹2। आपके पास केवल 8 रुपये हैं, आपने दो और दोस्तों से चॉकलेट के इस बॉक्स को खरीदने के लिए 2 रुपये करके लिए…. लेकिन दुकानदार ने आपको सारी चॉकलेट नहीं दीं आपको उस बॉक्स से केवल 4 चॉकलेट दीं और दुकानदार बाकी दो दोस्तों को 2 चॉकलेट बीच में बाँट दिया।

प्रत्येक म्यूचुअल फंड की यूनिट ऐसे काम करती हैं। 

SIP और Lumpsum क्या है?

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के दो तरीके हैं Systematic Investment Plan [SIP] और Lumpsum

Systematic Investment Plan या एसआईपी मंथली, क्वार्टरली, एंड हॉफ ईयरली फिक्स्ड अमाउंट फिक्स्ड पीरियड तक किसी भी म्यूच्यूअल फंड मैं इन्वेस्ट की विधि का संदर्भ देता है।

लम्पसम इन्वेस्टमेंट प्लान आपको एक बार निवेश करना होगा, बार-बार नहीं।

यदि आप एक निश्चित मासिक वेतन या लिमिटेड इनकम के साथ काम करते हैं तो एसआईपी आपके लिए अच्छा है और यदि बिजनेसमैन या बड़ा इंसेंटिव आपको मिले है, तो लम्सॉम इंवेस्टमेंट आपके लिए है।

म्यूच्यूअल फंड्स के फायदे?

शेयर बाजार के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं या बहुत कम पैसे में इन्वेस्ट शुरू करना चाहते हैं या आपके पास मार्केट एनालिटिक्स करने के लिए बहुत कम समय है तो एक लोकप्रिय निवेश पद्धति म्यूच्यूअल फंड जिसके माध्यम से आप बहुत कम समय में बेसिक नॉलेज के साथ निवेश कर सकते हैं। इतना ही नहीं, इसके कई फायदे हैं निम्नलिखित —

Small Investment

किसी भी कंपनी उनके शेयर कितने भी महंगे क्यों न हों, आप उन्हें म्यूचुअल फंड के जरिए बहुत कम पैसा लगाकर खरीद सकते हैं, यह सबसे सुविधाजनक पहलुओं में से एक है। ग्रो, पेटीएम मनी एप्लीकेशन के माध्यम से न्यूनतम 100 रुपये से निवेश शुरू कर सकते हैं।

Sip

म्युचुअल फंड का दूसरा सबसे बड़ा फायदा एसआईपी [Systematic Investment Plan] है। धीरे-धीरे आप हर महीने एक निश्चित राशि जमा करके एक बड़े फंड का निर्माण कर सकते हैं।

Professional Management

तीसरा सबसे बड़ा लाभ पेशेवर प्रबंधन है, आपके पास शेयर बाजार का कोई ज्ञान नहीं है, चिंता ना करें जिस म्यूचुअल फंड में आपने निवेश किया है, फंड के विशेषज्ञों द्वारा विश्लेषण किया जाता है और वे विभिन्न शेयर बाजारों में निवेश करते हैं ताकि हम अच्छा लाभ कमा सकें।

Diversification

म्युचुअल फंड सुरक्षा और लाभ के लिए एक स्थान पर अर्थव्यवस्था के बजाय विभिन्न क्षेत्रों में निवेश करते हैं। फंड के पैसा कहाँ निवेश करना है यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस तरह फंड में निवेश करते हैं।

Sell

म्यूचुअल फंड की प्रत्येक यूनिट को बेचना बहुत आसान है आप आसानी से ऑनलाइन बेच सकते हैं फंड के शर्तेँ अनुसार। कुछ परिणामों में 30 मिनट के भीतर आपके बैंक खाते में पैसा स्थानांतरित हो जाता है और कुछ फंड के लिए निश्चित समय तक इंतजार करना पड़ता है।

लोकप्रियता का एक कारण यह भी है कि रिस्क मिडल रिस्क एंड सेफ विभिन्न प्रकार के निर्देशकों के लिए कई म्यूच्यूअल स्कीम हैं।

म्युचुअल फंड सही है?

भ्रष्टाचार के संदर्भ में कहना चाहते हैं तो यह पूरी तरह से सुरक्षित है, सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) के अंतर्गत पंजीकरण है जो भारत शेयर बाजार को पूरी तरह नियंत्रित करते हैं।

प्रॉफिट के बारे में पूरी तरह से संरक्षित होने की बात कर रहे हैं, तो यह पूरी तरह से संरक्षित नहीं है। हालांकि जोखिम की मात्रा बहुत कम है, इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कहां निवेश किया है। इसलिए म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले आपको एक बात हमेशा सुना होगा – ” Mutual Fund Investments Are Subject To Market Risks. Read All Scheme Related Documents Carefully.”

मुझे उम्मीद है कि आप म्यूच्यूअल फंड [ Mutual Fund In Hindi ] के बारे में आपके सभी सवालों का जवाब दिए गए हैं अगर आपके पास इनके अलावा कोई अन्य प्रश्न हैं तो टिप्पणी करना न भूलें। जिन सवालों को आप जानना चाहते हैं, उनका जवाब बहुत जल्द दिया जाएगा।

😆 धन्यवाद 😆 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *